हिंदी के प्रमुख एंकाकीकार एंव उनकी एंकाकी संग्रह | hindi aekanki or aekankikar

हिंदी के प्रमुख एंकाकीकार एंव उनकी एंकाकी संग्रह | Hindi Aekanki Or Aekankikar की इस पोस्ट में हिंदी के प्रमुख उपन्यास कर एंव उनके एंकाकी संग्रह का वर्णन किया गया है|

हिन्दी एकांकी का विकास

हिन्दी एकांकी का प्रारम्भ प्रसाद कृत ‘ एक घूट’ एकांकी से माना जाता है जिसकी रचना 1929 ई में हुई थी। डॉ. नगेन्द्र ने रामकुमार वर्मा के एकांकी ‘ बादल की मृत्यु’ को हिन्दी का पहला एकांकी माना है।

Hindi Aekanki Or Aekankikar

एकांकीकार एकाकी/ एकाकी संग्रह
जयशंकर प्रसाद एक घूट
रामकुमार वर्मा बादल की मृत्यु, रेशमी टाई, चारुमित्र, दीपदान, विभूति, सप्तकिरण, रूपरंग, रजतरश्मि, ऋतुराज, रिमझिम, इन्द्रधनुष पांचजन्य, कौमुदी महोत्सव, मयूरपंख जुही फूल
जगदीशचन्द्र माथुर भोर का तारा, मेरी बांसुरी, कबूतरखाना, घोंसले, ओ मेरे सपने
भुवनेश्वर पसाद मिश्र ताबे के कीड़े, आजादी की नीद, सिकन्दर, कारवा, स्ट्राइक
उदयशकर भट्ट ‘ अभिनव एकांकी, स्त्री का हृदय, चार एकांकी, समस्या का अन्त, धूमशिखा, अन्धकार और प्रकाश आदिम युग, पर्दे के पीछे आज का आदमी, शक विजय, क्रान्तिकारी दस हजार
सेठ गोविन्ददास कंगाल नहीं, सप्तरश्मि, एकादशी, पंचभूत, चतुष्पथ
उपेन्द्रनाथ’ अश्क ‘ चरवाहे, परदा उठाओ, परदा गिराओ, अन्धी गली, साहब को जुकाम, पच्चीस श्रेष्ठ एकांकी, पक्का गाना, देवताओं की छाया में, लक्ष्मी का स्वागत, छ: एकांकी
मोहन रोकश अण्डे के छिलके, सिपाही की माँ, कयूं
गोविन्दबल्लभ पन्त विषकन्या
विष्णु प्रभाकर प्रकाश और परछाई, इंसान, बारह एकांकी, क्या वह दोषी था, दस बजे रात, ऊंचा पर्वत गहरा सागर, ये दायरे
धर्मवीर भारती नदी प्यासी थी, नीली झील, सृष्टि का आखिरी आदमी
विनोद रस्तोगी बहू की विदा, काले कौए गोरे हंस
गिरिजाकुमार माथुर उमर कैद
पाण्डेय बेचन ‘ उग्र’ चार बेचारे
हरिकृष्ण ‘ प्रेमी ‘ मातृमन्दिर, राष्ट्रमन्दिर, मानमन्दिर, न्यायमन्दिर, वाणीमन्दिर
कुवर बहादुर प्रजातन्त्र की झलक
लक्ष्मीनारायण मिश्रअशोक वन, अपराजित, चक्रव्यूह
लक्ष्मीकान्त शर्मा अपना-अपना जूता
गंगाप्रसाद श्रीवास्तव मिट्टी का शेर
सत्येन्द्र शरत् शोहदा, प्रतिशोध, गुडबाई, अनीता
आरसी प्रसाद सिंह टूटे हुए दिल, कलंक मोचन, समझौता
प्रकाशचन्द्र गुप्त विजय किसकी, होटल
रेवतीशरण शर्मा मुझे जीने दो, अमावस का अन्धकार, उतार-चढ़ाव
चिरंजीत दफ्तर जाते समय, चतुर्भुज महाशय, तस्वीर उसकी, नया जन्म, चक्रव्यूह
गणेश प्रसाद द्विवेदी सोहाग बिन्दी तथा अन्य नाटक।
Hindi Aekanki Or Aekankikar

Leave a Reply

%d bloggers like this: