rajasthani shabdon ke hindi roop

REET परीक्षा 2021 के हिंदी विषय के पाठ्यक्रम में इस बार नया टॉपिक राजस्थानी शब्दों के हिंदी रूप (Rajasthani shabdo ke hindi roop) को जोड़ा गया है | इस पोस्ट में राजस्थानी शब्दों के साथ उनके हिंदी अर्थ को विस्तार से समझाया गया है |
इसके साथ आप इनकी पीडीऍफ़ भी डाउनलोड कर सकते हो | जिसका लिंक निचे दिया गया है |
और इस पोस्ट में राजस्थान बोर्ड की कक्षा 6, 7 और 8 में आये हुए राजस्थानी शब्दों को इस पोस्ट में शामिल किया गया है

राजस्थानी शब्द व उनके हिंदी अर्थ महत्वपूर्ण पीडीऍफ़ डाउनलोड | REET 2021

rajasthani-shabdon-ke-hindi-roop
rajasthani shabdon ke hindi roop

राजस्थानी शब्द व उनके हिंदी रूप

  1. दिसा जाना – पायखाना/ बाथरूम जाना।
  2. रमणा – खेलना
  3. ठिकाणा – पता
  4. किना उडाणा – पतंग उड़ाना
  5. ख्वासजी – नाई
  6. अगुण – पूर्व
  7. आथूणा – पश्चिमी
  8. कांजर – बंजारा
  9. झरोखो – खिड़की
  10. बाजोट – लकडी कीबडी चौकी
  11. माढणो – लिखना
  12. कुलियो – मिट्टी का छोटा वर्तन
  13. मुदो -तिलक (विवाह में वर के )
  14. मेल – विवाहिक प्रीतिभोज
  15. सुतली – जवाई
  16. पूंगा/ मुशल – बेवकूफ
  17. ठुंगा – लिफाफा
  18. खूंटी – वस्तु लटकाने का स्थान
  19. कांसन – बर्तन
  20. ओबरो – अनाज रखने का स्थान
  21. खाट / मांचो – बडी चारपाई
  22. खटुलो – छोटी चारपाई
  23. कुरियो घुचटियो – कुत्ते का बच्चा
  24. मुहमाखी /मदमाखी – मधुमक्खी
  25. भिल्लड – घोड़ा मक्खी
  26. लूकटी – लोमड़ी
  27. गदड़ों – सियार
  28. खुसडा – जुत्ते चप्पल
  29. बरिंडा – बरामदा
  30. आंगी – स्त्री की चोली
  31. कांचली – स्त्री की कुर्ती
  32. झालरों – गले में पहनने की माला
  33. गंजी / बड़ी – बनियान
  34. भंवर – बड़ा लड़का
  35. भवरी – बड़ी लड़की
  36. डांगरा – पशु
  37. ढोर – भेड़-बकरी
  38. लालजी – देवर
  39. लाडो – बेटी
  40. लाडलो – प्रिय

    राजस्थानी शब्द व उनके हिंदी रूप PDF

  41. लाडी – सोतन
  42. गीगलो – बच्चा
  43. गेलड – दुसरे विवाह में स्त्री के साथ जाने वाला बच्चा
  44. घनडो / घनेडी – भानजा-मानजी
  45. भुडोजी – फूफाजी
  46. धणी -लुगाई – पति-पत्नी
  47. भरतार – पति
  48. कलेवो – नाश्ता
  49. बेसवार – मसाला
  50. जिनावर – जीव-जन्तु
  51. सीरख – रजाई
  52. पथरना – विछोना
  53. हरजस /हरजा – भजन
  54. पतड़ों – पंचाग
  55. मिति – तिथि
  56. बाखल – लान
  57. तीपड – मकान की तीसरी मंजिल
  58. शाल – सामने का बड़ा कमरा
  59. तखडीयों/ ताकड़ी – तराजू
  60. पसेरी / धडी – 5 kg
  61. सेर – 1 kg
  62. धुण – 20 Kg
  63. वाकल वाणी – पीने के नल का पानी
  64. पालर पाणी – पीने का बारिश का पानी
  65. बेडियों – मसाला वाक्स
  66. घडूची – पानी का मटका रखने की वस्तु
  67. ओरा – कोने का कमरा
  68. परिडा – पानी रखने की जगह
  69. खेली – पशुओं के पानी पीने का स्थान
  70. कोटडी – बौक्स रूम
  71. मालिया – मकान का दूसरी मंजिल पर छत पर रूम
  72. गुम्हारिया – तलघर
  73. कब्जो – ब्लाउज
  74. मूण – मिट्टी का बड़ा घडा
  75. ठाटो – कागज गलाकर बनाया गया अनाज रखने का पात्र
  76. गुणीया – चाय / दूध / पानी रखने का छोटा बर्तन
  77. तडकाऊ – भोर
  78. चौमासो – बारिश का मौसम
  79. झबलो / झूबलो – नवजात बच्चे का वस्त्र
  80. माडि – कलब – वस्त्रो में दी जाने वाली

    rajasthani shabdon ke hindi roop Notes

  81. आंक – अक्षर
  82. झुतरा – बाल
  83. मोडो – साधू
  84. पुरियो – जानवरों के भोजन का स्थान
  85. चूंण – आटा
  86. राखुन्ड़ो – बर्तन साफ करने का स्थान
  87. सांकली – सरकंडा
  88. होद – डिग्गी
  89. उस्तरा – रेजर
  90. नीरो – पशु का चारा
  91. टोलडो – ऊँट का बच्चा
  92. अडवा – खेत में बिजुका
  93. अजमों – पुत्र जन्म पर गाया जाने वाला गीत
  94. चावर ,पाटा, पटेला – खेतों में जुताई के बाद भूमि को समतल करना
  95. थरपनो – स्थापित करना
  96. सूड – खेत जोतने से पहले खेत साफ करना
  97. धावाडिया – काफिले को लुटने वाला
  98. चांक – खलियान में अन्न राशी के ऊपर चिन्ह लगाना
  99. बजेडा – पान का खेत
  100. पाकट – बूढ़ा ऊँट
  101. अलसोट – फसल के साथ उगने वाली घास
  102. ब्यालू – सूर्यास्त के पूर्व का भोजन
  103. अकीको – मुस्लिम बच्चों के मुण्डन व नामाकरण
  104. अचरियो -बचरियो – सूर्य पूजा के दिन प्रसूता हेतु बनाया गया विभिन सब्जियों का मिश्रण
  105. अक्कड-बक्कड, कांजीदड़ो, दडीमार कोयड़ो – राजस्थान के देशी खेल
  106. अजन्मो – पुत्र जन्म पर गाया जाने वाला लोकगीत
  107. आगड , रावो , बेवनी – चूल्हे के आगे का भाग
  108. कसार – धी मे सीके आटे में चीनी मिलाकर बनाया गया खाद्य पदार्थ
  109. केलड़ो, पौणी, केरुड़ी – मिट्टी का तवा
  110. गीडोलो – केंचुआ , वर्षा ऋतु में पेदा होने वाला जीव
  111. चकडोल – गाजे बाजे के साथ शव ले जाने कि क्रिया
  112. छछयों – जीरे की फसल का रोग
  113. टांड – सामान रखने के लिए पत्थर की सिला दिवार पर लगाना
  114. छणेरी – उपले रखने का स्थान
  115. धोवण – मृतक की राख को पानी में डालकर रिश्तेदारों को दिया जाने वाला भोज
  116. परखी – बोरे से गेहूँ का नमूना निकालने का पात्र
  117. पाणत – फसल सिंचाई की प्रक्रिया
  118. मारोठ – विवाह के अवसर पर दुल्हे-दुल्हन के मुख पर चित्रकारी
  119. कलाल या मदजीवन – शराब का कारोबारी
  120. लावणी – फसल पकने के बाद काटने की प्रक्रिया

    राजस्थानी शब्द व उनके हिंदी रूप Downlode

  121. लावणों – मांगलिक कार्य पर बांटी जाने वाली मिठाई
  122. बोहरगत – व्याज पर रूपया उधार देने का धन्धा
  123. सीरावन – कृषको का सुषह का भोज
  124. हथलेवों की रस्म – एक लोकगीत/ पाणिग्रहण संस्कार / विवाह में वधू का हाथ वर के हाथ में देने
  125. स्यापल, करणी, गुणीया – भवन निर्माण करने वाले कारीगर के ओजार
  126. सानटो / आंटा सांटा – एक वैवाहिक प्रथा
  127. सिकली – धारधार हथियारों को धार देना
  128. हेड़ाऊ – घोड़ों का व्यापारी
  129. सेवंज – वह जमीन जिसमें बिना सिंचाई वर्षा से फसल होती है |
  130. सोभाऊ -वह स्त्री या कन्या जिसे विवाहित कन्या के साथ प्रथम बार ससुराल जाते समय साथ भेजा जाता है।
  131. सोम – पितृ पक्ष वालों का पुत्री के ससुराल में पैसे देकर भोजन करना
  132. बादरवाल – गेट पर नीम के पत्ते बांधना
  133. साकी – शराब / हुका पिलाने वाला व्यक्ति
  134. अलूणा (मक्खन) – गिलडी ( मक्खन रखने का पाप्त)
  135. तंग मोरखा, गोरबंध, पिलाणत्र – ऊँट का सजावट का समान
  136. ऊदेइ – दीमक
  137. चड्स – कुएं से पानी निकालने का चमड़े का बना पात्र

कक्षा – 6 हिंदी पुस्तक के राजस्थानी शब्द
rajasthani shabdon ke hindi roop

  1. धरती – भूमि
  2. सुरंगा – स्वर्ग
  3. सरमावे – लज्जित होना
  4. रमणा – धूमना फिरना
  5. जस – यश
  6. इमरत – अमृत
  7. बाजरियों – बाजरा
  8. दोंयु -दोनों
  9. मधरा – मीठा
  10. बायरियों – हवा
  11. पपोले – सहलाना
  12. मटुआ – मदमस्त
  13. अनूता – अत्यधिक
  14. ईरा – इसका
  15. धीनो – धुधारु पशु
  16. आंगणा – घर के आगे का भाग
  17. आभे – आकाश
  18. सिवाणे – सीमावर्ती
  19. पटराणी – महारानी
  20. मोबी – ज्येष्ठ
  21. उणियारा – चेहरा
  22. जामण-जाया – सगे बेटे
  23. हंकारे – पुकारना
  24. हेत – हित, प्रेम
  25. लिलाड – मस्तक
  26. पद – मर्यादा
  27. मायड – माथा
  28. खाथा – उत्तावला
  29. नारा – बैल

कक्षा- 7 हिंदी पुस्तक के राजस्थानी शब्द

rajasthani shabdon ke hindi roop

  1. इला – भूमि
  2. हेली – सखी
  3. बलिहारी – न्यौछावर
  4. डोढ़ी – ड्योडी , मुख्य वार
  5. खेटक – ढाल
  6. रुक – तलवार
  7. पाहणा – मेहमान
  8. मेडी – अटारी / उपरी भाग का
  9. कलायण – काली घटा
  10. तठ्या – प्रसन्न होने से
  11. रुडी-रुता – सुखा मौसम या ऋतू
  12. लूंवा – गर्म हवाएं
  13. रती – थोड़ा सा
  14. ओषद – दवा
  15. पाटा – पट्टी
  16. घट – हदय
  17. खोटा – बुरा
  18. संयाला – सियार
  19. औगण – अवगुण
  20. माँय – में
  21. भोत – बहुत

कक्षा- 8 हिंदी पुस्तक के राजस्थानी वाक्य

  1. हुक्म – आदेश
  2. दसगत – हस्ताक्षर
  3. औला – पक्तियां
  4. वैला – समय
  5. मुंडो – चेहरा
  6. टाबर – बालक
  7. जूण – जिन्दगी
  8. मायने – अन्दर
  9. ऊभो – खडा
  10. लेर – साथ
  11. सरणाटों – सन्नाटा
  12. बलबता – धधकना
  13. जमारा – जीवन
 
 

FAQ :

Q.1 : टोलडो किसे कहते है?
उत्तर : ऊँट का बच्चे को टोलडो कहा जाता है |
Q.2 : मालिया किसे कहते है?
उत्तर : मकान का दूसरी मंजिल पर छत पर रूम, मालिया कहलाता है |
Q.3 : सोभाऊ किसे कहते है?
उत्तर : वह स्त्री या कन्या जिसे विवाहित कन्या के  साथ प्रथम बार ससुराल जाते समय साथ  भेजा जाता है।
Q.4 : सेवंज किसे कहते है?
उत्तर : वह जमीन जिसमें बिना सिंचाई वर्षा से फसल होती है |
Q.5 : मारोठ किसे कहते है?
उत्तर : विवाह के अवसर पर दुल्हे-दुल्हन के मुख पर चित्रकारी

Leave a Reply

%d bloggers like this: