नवजात शिशु की अवस्थाएँ- मोरो, रूटिंग, बेबीन्सकी, पकड़ना, फिटल एक्टिविटीज व ब्लिंकिंग

new born baby activity  : मोरो किसे कहते है?, रूटिंग किसे कहते है?, बेबीन्सकी किसे कहते है?, पकड़ना किसे कहते है?, फिटल एक्टिविटीज  किसे कहते है? व ब्लिंकिंग  किसे कहते है? इन सभी प्रश्नों के उत्तर इस पोस्ट में मिल जायेंगे | यह पोस्ट reet, ctet, I grade, II grade, Htet, pti आदि के लिए महत्वपूर्ण है new born baby activity 
 
new-born-baby-activity
new born baby activity
 

new born baby activity

नवजात शिशु की अवस्थाएँ – (New Baby Born Stage)

मोरो अवस्था

जब तीव्र शोर होता है, तो बच्चा अपनी कमर को मोड़ते हुए भुजा को आगे की ओर फेंकता है और फिर अपनी भुजाओं को एक साथ लाता है जैसे कुछ पकड़ रहा हो। नवजात शिशु के आगे कोई भी वस्तु लाने पर वह हाथ-पैरों से उस वस्तु को पकड़ने की कोशिश करता है, इस क्रिया को मोरो (Moro) कहते हैं।

👉ये प्रश्न भी पढ़े : पंजाबी grammar Important के प्रश्न

रूटिंग अवस्था

नवजात शिशु के गाल को छूने पर वह अपना मुँह खोलता है तथा सिर को घुमाता है, इस क्रिया को रूटिंग
(Routing) कहते हैं।

बेबीन्सकी अवस्था

यदि बच्चे के पैर के तलवे को ठोका जाता है, तो पैर की उँगलियाँ ऊपर की ओर जाती है और फिर आगे की ओर मुड़ जाती है, इस क्रिया को बेबीन्सकी (Babinski) कहते हैं।

👉 ये भी पढ़े : REET में आने वाले मनोविज्ञान के महत्वपूर्ण प्रश्न

पकड़ना 

बच्चे की हथेली को यदि उंगली अथवा किसी अन्य वस्तु से दबाया जाता है तो बच्चा उंगुलियों से पकड़ (Hold लेता) है

फिटल एक्टिविटीज

गर्भस्थ शिशु के हाथ पैरों में स्वतः क्रियाएँ अथवा गतियों का होना फिटल एक्टिविटीज (Fetal Activities) कहलाता है।


ब्लिंकिंग 

तेज प्रकाश होने पर बच्चा आंखें बंद करता है इसे ब्लिंकिंग कहते हैं

child devlpment question

1 thought on “नवजात शिशु की अवस्थाएँ- मोरो, रूटिंग, बेबीन्सकी, पकड़ना, फिटल एक्टिविटीज व ब्लिंकिंग”

Leave a Reply

%d bloggers like this: