संज्ञा की परिभाषा और भेद | sangya ki pribhasha or bhed

Sangya Ki Pribhasha Or Bhed संज्ञा की परिभाषा और भेद इस पोस्ट में संज्ञा की परिभाषा?संज्ञा के कितने भेद होते है? संज्ञा के उदाहरन? को विस्तार पूर्वक समझाया गया है| यह पोस्ट REET, CTET, UPTET, HTET, RPSC 1st Grade, 2nd Grade, NET, V.D.O. PATWAR आदि महत्वपूर्ण भर्ती परीक्षाओ के लिए महत्वपूर्ण है|

Sangya Ki Pribhasha Or Bhed

संज्ञा की परिभाषा

किसी व्यक्ति, वस्तु, स्थान, और भाव के नाम को संज्ञा कहते है|
जैसे:- राम , जयपुर, पुस्तक, ताजमहल आदि

संज्ञा के भेद

संज्ञा के तीन प्रकार होते है
1. व्यक्तिवाचक संज्ञा
2. जातिवाचक संज्ञा
3. भाववाचक संज्ञा

1. व्यक्तिवाचक संज्ञा

परिभाषा:- जिस संज्ञा शब्द से एक ही व्यक्ति , वस्तु , स्थान के नाम का बोध हो उसे ‘व्यक्तिवाचक ‘ संज्ञा कहते है| व्यक्तिवाचक संज्ञा ‘ विशेष ‘ का बोध कराती है ‘ सामान्य ‘ का नही|
व्यक्तिवाचक संज्ञा विशेष:- व्यक्तिवाचक संज्ञा में प्राय व्यक्तियों, देशो, शहरो , नदियों, पर्वतों, त्योहारों, पुस्तको, दिशाओ, समाचार-पत्रों , दिनों , महीनों आदि के नाम आते है|
जैसे:- राम, राधा, जयपुर, ताजमहल, आगरा आदि|

2. जातिवाचक संज्ञा

परिभाषा:- जिस संज्ञा शब्द से किसी जाती के संम्पूर्ण प्राणियों , वस्तुओ, स्थानों आदि का बोध होता हो उसे ‘ जातिवाचक ‘ संज्ञा कहते है|
जातिवाचक संज्ञा:- जातिवाचक संज्ञा में प्राय वस्तुओ , पशुओ, पक्षियों, फल-फूल , धातुओ, व्यवसाय जैसे शब्द समूह में आ कर अपनी पूरी जाती का बोध कराते है, वंहा जातिवाचक संज्ञा होती है|
जैसे:- गाय, आदमी, पुस्तक, नदी, लड़का, बालक, भवन, राज्य, दिन, पर्वत, गाँव, कुर्सी, मेज, कलम, घड़ी, पोशाक , सागर, तारे आदि शब्द अपनी पूरी जाती का बोध कराते है|

3. भाववाचक संज्ञा

भाववाचक संज्ञा परिभाषा:- जिस संज्ञा शब्द से प्राणियों या वस्तुओ के गुण, धर्म, दशा, कार्य, मनोभाव आदि का बोध हो उसे ‘ भाववाचक संज्ञा ‘ कहते है|
भाववाचक संज्ञा :- भाववाचक संज्ञा में प्राय गुण , दोष , अवस्था, व्यापर, अमुर्तभाव तथा क्रिया के मूलरूप भाववाचक संज्ञा के अंतर्गत आते है|
जैसे:- बुढ़ापा, जवानी, ख़ुशी, लज्जा, शर्म , दया, मानवता, इंसानियत, महानता, मेहरबानी, अहसान, लडकपन, छुटपन, बचपन आदि |

CLICK NOW:- RPSC 1st Grade 1st Paper Syllabus In Hindi PDF

CLICK NOW:- RPSC 2nd Grade 1st Paper Syllabus In Hindi PDF

FAQ

1. संज्ञा किसे कहते है?

उत्तर:- किसी व्यक्ति, वस्तु, स्थान, और भाव के नाम को संज्ञा कहते है|

2. संज्ञा के कितने प्रकार होते है?

उत्तर:- संज्ञा के तीन प्रकार होते है|

3. व्यक्तिवाचक संज्ञा किसे कहते है?

उत्तर:- जिस संज्ञा शब्द से एक ही व्यक्ति , वस्तु , स्थान के नाम का बोध हो उसे व्यक्तिवाचक संज्ञा कहते है|

4. जातिवाचक संज्ञा किसे कहते है?

उत्तर:- जिस संज्ञा शब्द से किसी जाती के संम्पूर्ण प्राणियों , वस्तुओ, स्थानों आदि का बोध होता हो उसे ‘ जातिवाचक ‘ संज्ञा कहते है|

5. भाववाचक संज्ञा किसे कहते है?

उत्तर:- जिस संज्ञा शब्द से प्राणियों या वस्तुओ के गुण, धर्म, दशा, कार्य, मनोभाव आदि का बोध हो उसे ‘ भाववाचक संज्ञा ‘ कहते है|


2 thoughts on “संज्ञा की परिभाषा और भेद | sangya ki pribhasha or bhed”

  1. Pingback: RJ Study Blog

Leave a Reply

%d bloggers like this: